वाईएसआर तेलंगाना पार्टी की अध्यक्ष शर्मिला का तेलंगाना में कड़वा अनुभव रहा। वह अपने द्वारा स्थापित पार्टी को मजबूत करने के लिए पूरे तेलंगाना में पाद यात्रा कर रही हैं। पादयात्रा को लोगों का रिस्पांस नहीं मिल रहा है.शर्मिला ने अपनी राजनीतिक रणनीति में बदलाव करते हुए अधिकार तेलंगाना राष्ट्र समिति पर टारगेट किया है।. मुख्यमंत्री केसीआर अपने बेटे आईटी और नगर पालिका शाखा मंत्री केटीआर पर आरोप कर रहे हैं। इसके अलावा मंत्रियों और स्थानीय नेताओं पर भ्रष्टाचार के कई आरोप कर रहे हैं. पिछले कुछ समय से खामोश रही है. वारंगल जिले में पदयात्रा के लिए आई शर्मिला पर टीआरएस कार्यकर्ताओं ने हमला किया। आंदोलनकारियों ने शर्मिला के वाहन को आग लगा दिया. । उनकी कार तोड़फोड़ की गई। इलाके में तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए पुलिस शर्मिला को गिरफ्तार कर हैदराबाद ले गई

 

मंगलवार दोपहर में मुख्यमंत्री कार्यालय, प्रगति भवन का घेराव करने के लिए निकले थे, । मामले की जानकारी होने पर पुलिस अलर्ट हो गई।,.पुलिस ने पंजागुट्टा में उस कार को रोक लिया, जिसमें वह सवार थी। … शर्मिला ने मानने से इनकार कर दिया, फिर भी पुलिस ने उसे कार से बाहर निकलने के लिए कोशिस की.। स्कूलों और कॉलेजों से निकलने का समय होने के कारण सड़कों पर बड़े पैमाने पर जाम हुवा। पुलिस ने क्रेन की मदद से कार को एसआर नगर थाने में पहुंचाया।

जब शर्मिला ने वहां भी कार से उतरने से इनकार कि. . पुलिस ने कार का दरवाजा तोड़कर उसे बाहर निकाले. और हिरासत में ले लिया। पुलिस ने शर्मिला के खिलाफ यातायात नियमों के उल्लंघन के साथ न्यू सेंस करने के आरोप में विभिन्न सेक्शनओं दर्ज किया है